ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
‘‘मध्यप्रदेश में महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्‍थल कार्यक्रम’’
December 20, 2019 • Avi Dubey


मध्यप्रदेश में पर्यटन विकास को दृष्टिगत रखते हुये तथा अधिक संख्या में पर्यटकों के आगमन को बढ़ावा देने हेतु यह आवश्यक है कि, विदेशी एवं घरेलू पर्यटकों व विशेषकर महिलाओं के लिये प्रदेश के पर्यटन स्थलों को ''महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल'' के रूप में विकसित किया जाये। मध्यप्रदेशके पर्यटन स्थल महिलाओं के लिये सुरक्षित हैं, यह संदेश जन समुदाय के बीच जाना भी चाहिये एवं महिला सुरक्षा जनभागीदारी द्वारा सामुदायिक सहभागिता को सुनिश्चित किया जाना चाहिये, जिससे कि उक्‍त कार्यक्रम को स्थिरता प्रदान की जा सके तथा यह भावना आमजन के व्‍यवहार में परिवर्तित हो सके।

प्रदेश में मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा पर्यटन स्थलों को महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने हेतु ''महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल'' का प्रस्ताव ''निर्भया योजनान्तर्गत'' मंत्रालय महिला एवं बाल विकासविभाग,भारत सरकार को प्रेषित किया गया था। जिसकी परियोजना लागत लगभग 27.98 करोड है। इस परियोजना अंतर्गत संबंधित हितधारकों हेतु प्रशिक्षण एवं  क्षमता निर्माण, महिलाओं की सुरक्षा के प्रति जागरूकता सृजन, आईईसी, आत्मरक्षा प्रशिक्षण, पर्यटन स्थलों का सुरक्षा की दृष्टि से अंकेक्षण, पर्यटन स्थलों पर अधिक से अधिक कार्यशील महिलाओं की उपस्थिति सुनिश्चित कर महिलाओं हेतु उनके अनुकूल वातावरण निर्माण के लिये महिलाओं का कौशल संवर्धन एवं क्षमता निर्माण, महिला पर्यटकों को पर्यटन स्थलों के विषय में आवश्यक जानकारियों एवं सूचनायें उपलब्ध कराना एवं सहयोग प्रदान करना आदि गतिविधियां प्रस्तावित हैं।

उक्‍त कार्यक्रम कासंचालन मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा किया जायेगा। प्रस्ताव में चरणबद्ध तरीके से आगामी 03 वर्षो में 50 पर्यटक स्थलों को 20 क्‍लस्‍टरों के रूप में विभाजित कर कार्य किये जाने की योजना है। 

दिनांक 19/12/2019 को नई दिल्ली में निर्भया योजना अंतर्गत आयोजित एमपावर्ड कमेटी की बैठक में सचिव, पर्यटन विभाग मध्यप्रदेश शासन श्री फैज़ अहमद किदवई द्वारा मध्यप्रदेश की वर्तमान स्थिति से अवगत कराते हुये परियोजना संचालन हेतु केन्द्र सरकार से वित्तीय एवं तकनीकी सहयोग प्रदान करने हेतु प्रस्तुतीकरण दिया गया। जिस पर एमपावर्ड कमेटी द्वारा उक्त कार्यक्रम को संचालित करने हेतु स्वीकृति प्रदान कर दी गई है।