ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
आध्यात्मिक शांति से ही विश्व शांति संभवः ब्रह्मचारी गिरीश
January 11, 2020 • Avi Dubey


भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मलीन परमपूज्य महर्षि महेश योगी जी की 103वीं जयंती के अवसर पर महर्षि ज्ञानयुग महोत्सव प्रारंभ हुआ। महर्षि उत्सव भवन, ब्रह्मनंद सरस्वती आश्रम, भोजपुर मंदिर मार्ग छान में आज मध्यप्रदेश के विधि एवं जनसंपर्क मंत्री पी.सी शर्मा की उपस्थिति में कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ आज प्रथम दिवस विश्व शांति की स्थापना में कानून एवं न्याय की भूमिका विषय पर सेमीनार हो रहा है जिसमें देश के कई ख्यातिलब्ध कानूनविद शामिल है।
महर्षि महेश योगी वैदिक विश्वविद्यालय के कुलाधिपति, महर्षि विश्व शांति आंदोलन एवं महर्षि विद्यामंदिर विद्यालय समूह के अध्यक्ष ब्रह्मचारी गिरीश ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि ‘हम सभी यहा दो दिवसीय ज्ञानयुग महोत्सव को मनाने के लिए एकत्रित हुए है। हमने जिनसे ज्ञान प्राप्त किया है। वहीं हमारे गुरू है। महर्षि महेश योगी जी का पूरे जीवन एक लक्ष्य रहा कि प्रत्येक व्यक्ति को अजेता, सुख, समृद्धि, संपन्नता, आनंद की प्राप्ति हो। भारत में हजारों कानून बने हुए है एवं प्रत्येक लोकसभी एवं विधानसभाओं में नए कानूनोें का जन्म होता है क्या कानून बना देने से शांति स्थापित हो जाएगी? शायद नहीं इसके लिए एक ही उपाय सूझता है कि प्राथमिक शिक्षा से लेकर पीएचडी तक शिक्षा में विश्व शांति को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए। क्योंकि आध्यात्मिक शांति से ही विश्व शांति संभव है। इसके लिए यह जरूरी है कि हम प्रत्येक विद्यार्थी को प्रारंभिक जीवन से ही चेतना को जाग्रत कर दें। चेतना जाग्रत हो जाने से प्रकृति के नियमों का अनुपालन सुनिश्चित हो सकेगा ऐसा करने से श्रष्टि का विधान जाग्रत हो सकेगा। इसके लिए हमें महर्षि महेश योगी जी ने महत्वपूर्ण वैज्ञानिक तकनीकी दी है। वह है भावातीत ध्यान । इसलिए हमें इस प्रोद्योगिकी को अपना कर चेतना को जाग्रत करना चाहिए।
इस अवसर पर मध्यप्रदेश शासन के विधि एवं जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने अपने विचार रखते हुए कहा कि भावातीत ध्यान एवं भारतीय संस्कृति का परचम पूरी दुनिया में फैलाने का कार्य महर्षि महेश योगी जी ने किया। इस प्रदेश की धरती से निकलकर पूरे विश्व के पटल पर एक महान चेतना वैज्ञानिक के रूप में जाने गए। कल उनका 103वां जन्म दिवस है। इसलिए हम चाहते है कि उनका बताया गया मार्ग और ज्ञान ब्रह्मचारी गिरीश जी जैसे संत मार्गदर्शन करें ताकि मध्यप्रदेश सरकार उसपर अमल कर सके।
सर्वोच्च न्यायलय के सीनियर काउंसेल सी.एस. विद्यानाथन जिन्होंने अयोध्या मामले में रामलला की पैरवी की है। उन्होंने कहा कि हमारे आज के छात्र कल के नेता है वह पूरे विश्व में शांति एवं खुशहाली का नेतृत्व भविष्य में करेंगे। विधि एवं न्याय के माध्यम से विश्व शांति की स्थापना तभी हो सकती है। जब हम महर्षि महेश योगी द्वारा प्रणीत भावातीत ध्यान का अपना कर शांति एवं खुशहाली को प्राप्त करें और उस दिशा में ब्रह्मचारी गिरीश जी एवं महर्षि संस्थान बहुत सकारात्मक कार्य कर रहे है।
मध्यप्रदेश उच्च न्यायलय के जस्टिस एस.के. सेठ ने कहा कि विधि एवं न्याय के माध्यम से विश्व शांति सिर्फ दो विधियों से स्थापित हो सकती है। एक है प्राकृतिक न्याय का अनुसरण करके और दूसरा है महर्षि महेश योगी द्वारा प्रणीत भावातीय ध्यान को अपनाकर। इसलिए बड़ती हुई अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए कानून का शासन एक आदर्श है किन्तु शांति की स्थापना में सभी को अपना-अपना योगदान देना होगा।
मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के अघ्यक्ष जस्टिस एन.के. जैन ने अपने विचार रखते हुए कहा कि महर्षि जी द्वारा स्थापित समस्थ शैक्षणिक संस्थान जो योगदान विश्व शांति में दे सकते है उससे बड़कर कुछ और नहीं हो सकता। आज जो चेतना आधारित शिक्षा के साथ संस्कार दिए जा रहे है वह भविष्य में शांति का मार्ग ही स्थापित करेंगे। यदि हम पूरे विश्व में ऐसी शिक्षा का विस्तार कर दे तो विधि एवं न्याय के माध्यम से विश्व शांति के लक्ष्य को हासिल कर सकते है।
भारतीय पुलिस सेवा के एस.के. जयचंदा का विचार था कि आज विश्व को शांति की बहुत जरूरत है लेकिन पूरे विश्व में शांति तभी स्थापित होगी जब भारत देश, हमारे प्रदेश एवं हमारे शहर में शांति स्थापित हो। इसलिए हमें शांति का मार्ग खोजना होगा ताकि वैकल्पिक मार्गो एवं विधियों को समायोजित कर सके। इसमें सयुक्त राष्ट्र सहित अन्य निकाय भी अपना योगदान दे रहे है। यदि इसी तरह प्रत्येक संस्थान राज्य, एवं सरकार पहल करे तो यह लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। इसके लिए हमें आतंकवाद को कुचलने एवं युद्धों की संभावना खत्म करने के लिए महर्षि महेश योगी जी की युक्ति को अपनाना होगा।