ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
दलित पिछड़ों के अधिकारों को खत्म कर, आरक्षण खत्म करना चाहती है  भाजपा: विभा पटेल
February 16, 2020 • Avi Dubey

भोपाल, 15फरवरी. प्रदेश कांग्रेस की प्रवक्ता एवं पूर्व महापौर विभा पटेल ने कहा कि भाजपा हमेशा से दलित-पिछड़ों के अधिकारों को कुचलने का काम कर रही है. यही वजह है कि आज भाजपा षडय़ंंत्र पूर्व· आरक्षण खत्म करना चाहती है. जबकि कांग्रेस ने हमेशा से गरीब आदिवासी, दलित, पिछड़ों के अधिकारों की चिंता की है. यही वजह रही कि इस वर्ग को आगे लाने के
लिए आरक्षण की व्यवस्था लागू की थी, जिसे आज भाजपा खत्म करने पर तुली हुई है. विभा पटेल ने भाजपा की सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि इनकी सरकार ने ·भी भी आरक्षण को लेकर और गरीबों के अघिकार को लेकर कोई काम नहीं किया है. वे आज आरक्षण पर सिर्फ राजनीति कर रहे हैं. आरक्षण को लेकर इतनी ही चिंता होती तो मध्यप्रदेश में भाजपा की
सरकार 15 साल तक रही, लेकिन उनकी सरकार ने पिछड़ों को 27 प्रतिशत आरक्षण दिलाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया. पटेल ने कहा कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद पिछड़े वर्ग से आते हैं, लेकिन उन्होंने 15 साल तक मुख्यमंत्री रहते हुए इस वर्ग की बिल्कुल भी चिंता नहीं की मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद वे पिछड़े वर्ग के नाम पर सिर्फ राजनीतिक रोटियां सेकने के काम कर रहे हैं. यदि उन्हें इतनी ही चिंता होती तो वे पिछड़े वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने का काम अपने मुख्यमंत्री रहते हुए करते. कांग्रेस प्रवक्ता विभा पटेल ने भाजपा नेताओं को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि भाजपा की नियत साफ नहीं है. भाजपा की कथनी और करनी में अंतर है. यही वजह है कि आज भारतीय जनता पार्टी देश के असल मुददों से ध्यान हटाकर देश की जनता को एनआरसी, सीएए में उलझाना चाहती है. जबकि भारजीय जनता पार्टी की सरकार को रोजगार, 
उद्योग धंधे, किसान, शिक्षा और स्वास्थ्य आदि मुद्दों पर ध्यान देना चाहिए,  लेकिन भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र की सरकार ने पिछड़े 6 साल में विकास के नाम पर देश और देश के युवा को सिर्फ गुमराह करने का काम किया है. यही वजह है कि आज भाजपा देश को बांटने का काम कर रही है. विभा पटेल ने कहा कि देश अब भाजपा की कारस्तानी को समझ चुका है. देश की
जनता इनके बहकावे में नहीं आने वाली है. यही वजह है कि भारतीय जनता पार्टी विधानसभा चुनाव में लगातार हारते जा रही है.