ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
एबीवीपी ने निकाली सद्बुद्धि यात्रा
January 7, 2020 • Avi Dubey
एनएसयूआई को सद्बुद्धि देने के लिए इंदिरा गांधी के नाम ज्ञापन दिया
कांग्रेस कार्यालय के सामने सद्बुद्धि दीप जलाकर एनएसयूआई को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की
सोमवार को राजधानी की अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई ने मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस कार्यालय "इंदिरा भवन" के सामने स्थित भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधानमंत्री स्वर्गीय "इंदिरा गांधी" के नाम ज्ञापन लिखकर एनएसयूआई कार्यकर्ताओं को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की। इस दौरान एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने प्रतिमा के समक्ष दीपक भी जलाए।
दरअसल, रविवार को जेएनयू में छात्रों के साथ हुई घटना के संबंध में सोमवार को एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश कार्यालय पर एबीवीपी के खिलाफ नारेबाजी की। एबीवीपी का आरोप है कि एनएसयूआई ने बिना किसी सबूत या जांच पड़ताल के ऐंसा कृत्य किया जो कतई उचित नहीं था। एनएसयूआई के इस कृत्य से आहत होकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने मध्यप्रदेश कांग्रेस कार्यालय के बाहर शांतिपूर्ण ढंग से एकत्रित होकर कांग्रेस कार्यालय के सामने दीप जलाकर एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को सद्बुद्धि देने की मांग की।
विद्यार्थी परिषद के प्रांत सहमंत्री अभिषेक त्रिपाठी ने बताया कि जिस प्रकार एनएसयूआई देश को तोड़ने वाले ताकतों को अपनी बैसाखी बनाकर आगे बढ़ाना चाह रही है, वह इंदिरा गांधी के उसूलों के खिलाफ है। इंदिरा गांधी ने देश तोड़ने की साजिश करने वाले पाकिस्तान को ही दो हिस्सों में तोड़ दिया था, आज उनके वंशज उनके सिद्धांतों की बलि चढ़ाकर आगे बढ़ाना चाह रहे हैं। हमने स्वर्गीय इंदिरा गांधी से प्रार्थना की कि वह अपने वंशजो को सद्बुद्धि दें, कि वह वामपंथ जैसी देश को तोड़ने वाली ताकतों के सहारे न खड़े हो, यदि वह राष्ट्रहित की बात करते हैं तो हम परिषद के कार्यकर्ता भी उनका साथ देंगे लेकिन यदि वह अपने सिद्धांतों को छोड़कर टुकड़े-टुकड़े गैंग के समर्थन में खड़े होंगे तो हम उनका विरोध करेंगे।
कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए देवांश सोनी ने कहा कि विद्यार्थी परिषद अपने उद्देश्यों पर अडिग है वह राष्ट्रीय हित में सदैव तत्पर है लेकिन एनएसयूआई अपने उद्देश्यों से भटक रही है। अटल बिहारी वाजपेयी ने संसद में इंदिरा गांधी को दुर्गा का स्वरूप कहा था तो आज उन्हीं दुर्गा स्वरूपणी देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से प्रार्थना करते हैं कि वह अपने वंशजो को देश हित में खड़े रहने की सद्बुद्धि दें ताकि उनके सिद्धांतों की हत्या न हो सके।
एनएसयूआई के पुतला दहन के जबाव में एबीवीपी ने शांतिपूर्ण सद्बुद्धि मार्च निकालकर अपने आदर्शों का परिचय दिया है।