ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
एल आई सी की शानदार बढ़त कायम..
February 12, 2020 • Avi Dubey

भोपाल, 12.02..2020। भारत के सबसे बड़े जीवन बीमाकर्ता, भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) का लगातार शानदार प्रदर्शन जारी है ।  निगम ने लोगों का भरोसा जीतते हुए अपने इतिहास में पहली बार 1.50 लाख करोड़ रुपये का नव व्यवसाय प्रीमियम पार कर लिया है और जीवन बीमा सेक्टर में अपने अग्रणी नेतृत्व को बनाए रखा है । जनवरी 2020 तक एल आई सी ने व्यक्तिगत नव व्यवसाय में 17.48% की प्रभावशाली वृद्धि दर्ज करते हुए  प्रथम वर्षीय प्रीमियम में 45,199 करोड़ रुपये एवं 29.42% वृद्धि के साथ 1,95,85,635 पॉलिसियों का उल्लेखनीय आँकड़ा दर्ज किया । 

31 जनवरी 2020 तक अब एल आई सी का सकल मार्केट शेयर पॉलिसी संख्या की दृष्टि से 77.61% एवं प्रथम वर्षीय प्रीमियम के आधार पर 70.02% हो गया है, जो कि 31 जनवरी 2019 में क्रमशः 73.54% एवं 66.26% की तुलना में कहीं ज्यादा है । एल आई सी के पेंशन एवं समूह योजना व्यवसाय ने भी इस वित्तीय वर्ष में नए आयाम स्थापित करते हुए एक लाख करोड़ रुपये से भी अधिक राशि की नवीन प्रीमियम आय अर्जित कर नया रिकॉर्ड बनाया । पेंशन एवं समूह योजना ने गत वित्तीय वर्ष में इसी अवधि तक एकत्र 66,748 करोड़ रुपये की तुलना में इस वर्ष अभी तक 1,05,566 करोड़ रुपये संग्रहीत किए हैं । 31.01.2020 तक सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत कुल 2.45 करोड़ लोगों (वर्ष 2019-20 के दौरान) को जीवन सुरक्षा प्रदान की जा चुकी है । 

इस वित्तीय वर्ष में 31.01.2020 तक, एल आई सी ने 1,42,93,289 परिपक्वता दावों के अंतर्गत 69,748 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। इसके अलावा एल आई सी ने 5,99,881 मृत्यु दावों के अंतर्गत 9,866 करोड़ रुपये राशि का भुगतान किया है । इसमें 96.83% गैर शीघ्र मृत्यु दावा का निपटान दावा सूचना प्राप्ति के 15 दिनों के अंदर किया गया है ।  

आई आर डी ए आई के नए विनियमों का पालन करते हुए भारतीय जीवन बीमा निगम ने मौजूदा उत्पादों में आवश्यक संशोधन किए हैं, जैसे कि संशोधित समर्पण मूल्य एवं बन्द पड़ी पॉलिसियों के पुनर्चलन अवधि को 2 वर्ष से 5 वर्ष तक विस्तारित करना । इसके अतिरिक्त विभिन्न राईडर्स के रूप में वैकल्पिक लाभ, किश्तों में दावा भुगतान राशि प्राप्ति का विकल्प (सेटलमेंट विकल्प) भी अधिकतर उत्पादों में जोड़ा गया है । उक्त संशोधित उत्पाद 1 फरवरी 2020 से विक्रय हेतु उपलब्ध हैं ।

30.09.2019 तक की अवधि में निगम की कुल आय 2,97,017.28 करोड़ रुपये रही, जो कि पिछले वर्ष इसी समयावधि के दौरान अर्जित कुल आय 2,52,149.60 करोड़ रुपये की तुलना में 17.79% की आकर्षक वृद्धि दर दर्शाती है। 

निगम की कुल परिसंपत्तियाँ 30.09.2019 की समाप्ति तक 32,25,905.42 करोड़ रुपये है । इसमें गत वर्ष की छः माह की इसी अवधि के दौरान 29,89,276.53 करोड़ रुपये की तुलना में 7.92% की वृद्धि दर्ज की गई है । 

राजकोषीय वर्ष 2018-19 के दौरान एल आई सी ने अभी तक का सर्वाधिक मूल्यन अधिशेष 53,214.41 करोड़ रुपये उत्पन्न किए, जो कि गत वर्ष की तुलना में 9.9% अधिक हैं । निगम द्वारा भारत सरकार को 2,610.74 करोड़ रुपये का लाभांश दिया गया है, जो निगम के इतिहास में अभी तक का सर्वाधिक है।

भारत में सबसे बड़े बीमाकर्ता होने के नाते, एल आई सी ने सदैव तकनीक आधारित नए विकल्पों के जरिए अपने मूल्यवान ग्राहकों एवं अन्य हितधारकों को सर्वोत्तम सेवाएँ मुहैया करवाने का प्रयास किया है । एल आई सी ने  मजबूत ऑनलाइन उपस्थिति दर्शाते हुए अपने आंतरिक एवं बाहरी ग्राहकों के लिए नव व्यवसाय एवं सर्विसिंग संचालन क्षेत्र में उत्कृष्ट डिजिटल प्लेटफॉर्म उपलब्ध करवाया है । एल आई सी कस्टूमर पोर्टल का 1,33,78,231 लोग बखूबी इस्तेमाल कर रहे हैं । पॉलिसी धारकों द्वारा सभी उपलब्ध डिजिटल चैनलों के माध्यम से प्रीमियम का भुगतान किया जा सकता है । अभी हाल ही में 6 जनवरी 2020 को एल आई सी की आधिकारिक वेबसाईट पर आर्टीफ़िशियल इंटेलिजेन्स आधारित ध्वनि संचालित चेटबोट ‘एलआईसी मित्र’ (LIC MITRA)  लांच किया गया है, जो एल आई सी के उत्पादों एवं सर्विसिंग से संबन्धित समस्त जिज्ञासाओं, जैसे पॉलिसी पुनर्चलन,नामांकन,समनुदेशन,पॉलिसी ऋण,दावा प्रक्रिया एवं सम्बद्ध प्रपत्रों आदि का जवाब देने में सक्षम है । एल आई सी ने व्यवसायिक सुगमता बनाए रखने के लिए अपने शाखा कार्यालयों में इन्टरनेट आधारित सुरक्षित नेटवर्क प्रणाली को लागू किया है ।                                                     

 

  • निगमित सम्प्रेषण विभाग, म.क्षे.का.,भोपा