ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
मैं और मेरी आवाज:  उदय संस्था का बाल सुरक्षा – सुरक्षित शहर अभियान
November 15, 2019 • Avi Dubey

उदय सामाजिक विकास संस्था अन्तराष्ट्रीयबाल अधिकार दिवस की 30 वीं वर्षगांठ मना रही हैइस विशेष दिन को उत्सव मनाने के लिए, हम 1 सप्ताह का अभियान चला रहे हैं। अभियान के दौरान,संस्था बाल अधिकार  समझौते पर केंद्रित विभिन्न गतिविधियों का संचालन करेंगे, जो की बाल सुरक्षा, बाल अधिकार और बालिका शिक्षा जैसे अन्य मुद्दों से जुड़ी होंगी। अभियान 14 नवंबर - बाल दिवस से शुरू होकर 19 नवंबर 2019 तक "बाल सुरक्षा - सुरक्षित शहर" विषय पर जारी रहेगा|

तीस वर्ष पहले,  20 नवम्बर 2019 को संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने अन्तराष्ट्रीय बाल अधिकार समझौते को पारित किया था |बाल अधिकारों समझौता सभी बच्चों को भेदभाव, हिंसा और उपेक्षा से मुक्त होने के लिए उनके अधिकारों की रक्षा करता है,। देशो की लगभग सभी सरकारो ने बाल अधिकारों का सम्मान, संरक्षण और संवर्धन करने का संकल्प लिया है।

इस अभियान हिस्से के रूप में,  14 नवम्बर 2019 को बाल दिवस कार्यक्रम का आयोजन सेंट राफेल को-एड स्कूल में किया गया था। कार्यक्रम का उद्देश साझा करते हुए  सिस्टर लिजी थॉमस- निर्देशिका, उदय संस्था ने बताया की बाल अधिकारों के बारे में समुदाय में जागरूकता फेलाने को आवश्यकता है ताकि बच्चे किसी भी प्रकार का हिंसा का शिकार न बने | बच्चो को अपने अधिकारो को पहचाना चाहिए और उसका सर्वोत्तम उपयोग करना चाहिए|

बाल संसद के सदस्या दीक्षा ने बाल दिवस के महत्व पर अपनी बात रखी और बताया की 14 नवम्बर हम क्यों मानते है | इसके बाद एक प्रेरक समूह गीत "बच्चन ने मिलकार का कहा आज"  बच्चो के समूह द्वारा प्रस्तुत किया गया| श्री निरंजन शर्मा – थाना प्रभारी (मिसरोद पुलिस) ने बच्चों को शिक्षा के प्रति प्रेरित किया। उन्होंने साझा किया कि शिक्षा बच्चों का मौलिक अधिकार है और समाज के उत्थान में कोई वांछित परिवर्तन लाने में सक्षम है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री आर.एन. सिंह- इनकम टैक्स ऑफिसर,.. ने बच्चों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि अनुशासन जीवन में सबसे महत्वपूर्ण है। जीवन के एक नियमित क्रम का पालन करने वाले बच्चे अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बच्चों को अपने माता-पिता  का सम्मान करने के लिए भी कहा, क्योंकि वे हमें जन्म देते हैं, उनके बिना हम कुछ भी नहीं है नहीं; दूसरी बात, हमे अपने शिक्षकों का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि वे हमें अच्छी शिक्षा देते है  करते हैं और शिक्षा के बिना हम एक भी कदम नहीं उठा सकते।

बच्चों के लिए  इस दिन को विशेष बनाने के लिए, खेल गतिविधियाँ जैसे नींबू और चम्मच रेस, 200 मीटर दौड़, रिले रेस आयोजित की गई थी। बागमुगालिया, जाटखेड़ी और दुर्गा नगर के लगभग 200 बच्चों ने खेल गतिविधियों का आनंद लिया। सिस्टर एलसी के. वर्घिस- सेंट राफेल को-एड स्कूल के प्रिंसिपल, सिस्टर एंसिला चाको - मैनेजर होली स्पिरिट कॉन्वेंट, सिस्टर शैनी - प्रबंधन उदय सोसायटी, अध्ययन कक्षा के शिक्षक और उदय  संस्था टीम के मौजूद थे।

Roshni Solanki
Uday Social Development Society