ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
श्री जगन्‍नाथ स्‍वामी रामगोपाल ट्रस्‍ट ने श्रद्धालुओं के लिये सुविधाओं का विस्‍तार किया
November 1, 2019 • Avi Dubey

 ट्रस्‍ट 4 शहरों में 3 मंदिरों और 3 धर्मशालाओं सहित 20 से अधिक प्रॉपर्टीज का प्रबंधन करती है

 हैदराबाद,31st October 2019 : वर्ष 1920 में स्‍थापित श्री जगन्‍नाथ स्‍वामी रामगोपाल ट्रस्‍ट ने हाल ही में मथुरा में अपनी धर्मशाला को पूरी तरह से फिर से निर्मित किया और श्रद्धालुओं के लिये अतिरिक्‍त सुविधाओं की पेशकश की है। यह धर्मशाला यमुना नदी के किनारे पर प्रयाग घाट में स्थित है। यह प्रसिद्ध द्वारकाधीश मंदिर के नजदीक स्थित है। द्वारकाधीश मंदिर में मौजूद देव (श्री कृष्‍ण की मूर्ति) धर्मशाला प्रॉपर्टी (एक पुराने मंदिर के रूप में प्रसिद्ध) में थी और बाद में इसे मौजूदा मंदिर परिसर में स्‍थानांतरित किया गया था। 2 करोड़ रूपये के निवेश के साथ धर्मशाला की नई सुविधाओं में 10 पूर्णत: सुसज्जित एयर-कंडिशनयुक्‍त कमरे और 5 रेगुलर कमरे शामिल हैं, ताकि श्रद्धालुओं को यहां पर आरामदायक  माहौल मिल सके। धर्मशाला द्वारा लगभग 3,000 वर्गफीट के स्‍पेसियस एयर-कंडिशन्‍ड हॉल की सुविधा भी उपलब्‍ध कराई जाती है, जिसका इस्‍तेमाल विभिन्‍न धार्मिक त्‍योहारों एवं अवसरों के लिये किया जा सकता है। धर्मशाला की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह बंदरों से पूरी तरह से सुरक्षित है, क्‍योंकि सभी खुले क्षेत्रों में लोहे की सलाखें लगाई गई हैं।

धर्मशाला का उद्घाटन औपचारिक रूप से ट्रस्‍ट के चेयरमैन श्री हरिकिशन जी मलानी द्वारा 5 सितंबर को किया गया। उद्घाटन के बाद से इसे श्रद्धालुओं के लिये खोल दिया गया है। ट्रस्‍ट द्वारा वर्तमान में 3 मंदिरों सहित 20 से ज्‍यादा प्रॉपर्टीज का परिचालन किया जाता है। इसका उद्देश्‍य श्रद्धालुओं और भक्‍तों के लिये अधिक आरामदायक अनुभव सुनिश्चित करना है। इन प्रॉपर्टीज से होने वाली अधिकांश कमाई को स्‍वर्गीय श्री रामगोपाल मलानी द्वारा दान कर दिया जाता था। इससे मंदिरों और सरायों का प्रबंधन करने में मदद मिलती है। इन प्रॉपर्टीज में सिकंदराबाद में स्थित जगन्‍नाथ मंदिर, सत्‍यनारायण मंदिर और हनुमान मंदिर तथा मथुरा (उत्‍तर प्रदेश), विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश) और बसर (तेलंगाना) में स्थित 3 धर्मशाला शामिल हैं। अब स्‍वर्गीय दिवान बहादुर रामगोपाल मलानी (ट्रस्‍ट के संस्‍थापक) की 7वीं पीढ़ी के वंशज ट्रस्‍ट के मैनेजमेंट के प्रभारी हैं। ट्रस्‍ट द्वारा किये गये लोकपरोपकारी कामों के बारे में बताते हुये, श्री पुरूषोत्‍तम मलानी, फाउंडर फैमिली ट्रस्‍टी ने कहा, ''मलानी परिवार एक शताब्‍दी से भी अधिक समय से ढेरों लोकपरोपकारी कामों में योगदान दे रहा है, जिससे लोगों एवं समाज का भला हो रहा है। इस नजरिये से, हम अब सभी श्रद्धालुओं एवं भक्‍तों के लिये इसे सहज बनाने के लिये जरूरी कदम उठा रहे हैं। हम आधुनिक मानकों के अनुसार ट्रस्‍ट के सभी मंदिरों एवं प्रॉपर्टीज के विकास का काम देख रहे हैं।