ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
स्कूल बेल अभियान चलायेगी अभाविप- निलेश सोलंकी
January 4, 2020 • Avi Dubey

अभाविप महात्मा गांधी जी के 150वी जयंती के उपलक्ष्य में मध्यभारत प्रांत के ग्रामीण क्षेत्र के ऐसे विद्यालय जिनकी स्थिति दयनीय है ऐसे 150 प्राथमिक विद्यालयों का चयन कर उसमें सुधार हेतु स्कूल बेल (केम्पस टू कम्यूनिटी) अभियान चलायेगी- निलेश सोलंकी

आज दिनांक 4 जनवरी 2020 को अभाविप के प्रान्त कार्यालय पर पत्रकार वार्ता आयोजित की गई। जिसमें प्रदेश मंत्री श्री निलेश सोलंकी ने बताया कि प्रदेश की प्राथमिक शिक्षा गंभीर स्थिति में है। जिसे लेकर अभाविप मध्यभारत प्रांत में आगामी समय में महात्मा गांधी जी के 150 वी जयंती के उपलक्ष्य में प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र में ऐसे विद्यालय जिनकी स्थिति दयनीय है ऐसे 150 स्कूलों का चयन कर स्टूडेंट फॉर सेवा के माध्यम से "स्कूल बेल अभियान" (कैंपस टू कम्युनिटी) का आयोजन 'कया जाएगा जिसमे मेंङिकल, इंजीनियरिंग, स्पोर्ट्स, NSS, NCC, कला संस्कृति के "विद्यार्थियों ऐसे 40 छात्रों का दल बनाकर चार दिनों तक वे ग्रामीण क्षेत्र में रहकर वहा की प्राथमिक "विद्यालय में अलग-अलग प्रकार से वहां पेंटिंग करना, 'चित्र बनाना, खेलकूद करवाना, अलग-अलग "विषय को पढ़ाना, गांव के मुखिया व सरपंच एवं समाज के साथ चौपाल लगाना इस प्रकार से प्राथमिक "शिक्षा का स्तर उपर उठाने के "लिए इस बार अभाविप यह अभियान चलायेगी साथ ही मध्य भारत प्रांत में भारत सरकार द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में सभी जिलों में 10 जनवरी तक समर्थन मार्च, कालेज एवं "विश्व विद्यालय परिसरों में सामान्य छात्र द्वारा हस्ताक्षर अ भयान, प्लेस मुव, नुक्कड़ नाटक जैसे कार्यक्रम के माध्यम से CAA का समर्थन कर समाज को जागरूक किया जा रहा है तथा देश व प्रदेश में महिलाओं के साथ हुए दुराचार को देखते हुए गत वर्ष "मिशन साहसी जैसे कार्यक्रम का आयोजन किया है वहीं इस वर्ष भी छात्राओं को अपनी आत्मरक्षा के गुर "सिखाने के "लए मध्यभारत के सभी जिलों में, सभी "विद्यालय, महा विद्यालय, "विश्वविद्यालय, एवं छात्रावास परिसर में छात्राओं को अपने आत्मरक्षा करने के "लए "मिशन साहसी कार्यक्रम के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जाएगा । मध्यभारत प्रांत का 52 वा प्रदेश अधिवेशन 27 से 29 दिसंबर 2019 को दादा जी धुनि वाले की तपोभू मि एवं शहीद टंट्या मा मा की जन्मभूमि पर सम्पन्न हुआ। जिसमें 34 जिलों से 697 छात्र, 124 छात्रा, 30 प्राध्यापक, 5 अतिथि कुल 851 प्रतिनिधियों ने सहभाग किया साथ ही खंडवा नगर व जिले से 300 से अधिक कार्यकर्ता इस अधिवेशन की व्यवस्था में 14 घट, 42 "विभागों में कार्यरत थे 3 दिन चले इस अधिवेशन में विभिन्न विषयों पर भाषण, चर्चा सत्र के साथ साथ दो "विषयों पर प्रस्ताव पारित किए गए हैं साथ ही आगामी कार्यक्रमों एवं अभियान की घोषणा की गई अधिवेशन के अंतिम दिन प्रांत अध्यक्ष द्वारा प्रदेश कार्यकारिणी एवं प्रदेश कार्यसमिति की घोषणा की गई भाषण:अधिवेशन में प्रमुखता से दो "विषयों पर भाषण हुवे जिसमें प्रथम भाषा में "संभावनाओं का भारत" पर श्री प्रफुल्ल कांत जी अभाविप के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री दिल्ली ने अपने "विचार व्यक्त किए वहीं दूसरा भाषण "विद्यार्थी परिषद की गति विधियों के संदर्भ में ज्ञान शील एकता चली अखंड साधना पर श्री के. एन. रघुनंदन जी पूर्व राष्ट्रीय संगठन मंत्री ने अपने "विचार व्यक्त किए हैं ।

इस अधिवेशन में दो प्रस्ताव पारित किए गए हैं:

प्रस्ताव क्र. 1 प्रदेश का वर्तमान शैक्षणीक परिदृश्यः इस प्रस्ताव के अंतर्गत मध्य प्रदेश के "विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में रिक्त पड़े पदों की नियुक्ति करना, "विश्वविद्यालयों का वास्तंविक कार्य शोध करने का है वहीं प्रदेश में जीवाजी "विश्वविद्यालय ग्वालियर में जिस प्रकार से अनिय मितताएं हुई है जैसे शोध छात्रों की उपस्थिति के बिना ही कोर्स वर्क की परीक्षा करवाकर उत्तीर्ण कराना और शोध की उपाधि देना यह कहीं ना कहीं "विश्वविद्यालयों की "विश्वसनीयता पर प्रश्न 'चिन्ह है, वहीं "विश्व विद्यालय के कुलपति चयन में "विश्वविद्यालय अधिनियम 2019 के माध्यम से राज्य सरकार "विश्वविद्यालय का राजनीतिकरण कर रही है प्रदेश में भू माफियाओं के ऊपर कानूनी कार्रवाई कर प्रदेश की सरकार ने एक सकारात्मक उदाहरण प्रस्तुत कया है वैसे ही प्रदेश में "शिक्षा मा फियाओं के ऊपर भी इस प्रकार के कार्यवाही कर "शक्षा के व्यापारी करण पर लगाम लगाना आवश्यक हैं।

प्रस्ताव क्रमांक 2:- प्रदेश का वर्तमान परिदृश्य

इस प्रस्ताव के अंतर्गत प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति पर 'चिंता व्यक्त करते हुए देश व प्रदेश भर में महिलाओं के साथ बढ़ रहे दुराचार भी आज एक बड़ी 'चंता का "विषय है निर्भया कांड के पश्चात देश महिला सुरक्षा को लेकर कठोर कानून व सजा की अपेक्षा कर रहा है । प्रदेश में आई प्राकृतिक आपदाओं के कारण एक और प्रदेश का किसान बेबस व लाचार बन गया है वहीं कर्ज माफी के राजनीतिक वादों में अपने आप को छला हुवा महसूस कर रहा है वहीं प्रदेश के महापुरुष राष्ट्र जीवन में अपनी अहम भूमिका निभाने वाले वीर पुरुष टंट्या मामा, तात्या टोपे एवं शहीद चंद्रशेखर आजाद के सम्मान में स्मृति स्थानो को "विकसित 'किया जाना इन आदि मुद्दों को इन प्रस्तावों के माध्यम से इस अधवेशन में उठाया गया हैइस पत्रकार वार्ता में प्रांत सहमंत्री अभिषेक त्रिपाठी उपस्थित रहे हैं। 

नितिन पाठक प्रांत कार्याय मंत्री