ALL Current events Technology Social RGPV Updates COVID-19
विश्वरंग की अंतर्राष्ट्रीय समिति का गठन
December 18, 2019 • Avi Dubey

भोपाल, 19 दिसम्बर
रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला महोत्सव 'विश्वरंग' के भोपाल में सफल आयोजन के बाद इसके विस्तार एवं देश-विदेश में विभिन्न कार्यक्रमों के बीच संयोजन के लिए रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री संतोष चौबे की अध्यक्षता में एक अंतर्राष्ट्रीय समिति का गठन किया गया है। इसमें लगभग 20 देशों के प्रतिनिधि शामिल होंगे जो सभी महादेशों का प्रतिनिधित्व करते हैं।
इसमें मॉस्को (रूस) से इंदिरा गाजिएवा और ल्यूदमिला ख़खलोवा, जर्मनी से प्रो. डॉ. तत्याना ओरान्स्कया, (हैम्बर्ग), उज्बेकिस्तान से डॉ. सिराजुद्दीन नुर्मातोव (ताशकंद), कज़ाकिस्तान से डॉ. दरीगा कोकोएवा (अल्माटी), यूक्रेन से यूरी बोत्वींकिन (कीव), अर्मेनिया से ऋपसिमे नेर्सिस्यान (येरेवान) इज़राइल से डॉ. गेनेदी श्लोम्पेर (तेल अबीब), श्रीलंका से प्रो. उपुल रंजीत (कलवीय), फीजी से प्रो. सुब्रमनी (सूबा), इंग्लैण्ड से तेजेन्द्र शर्मा (लंदन), दिव्या माथुर (लंदन), ऊषा राजे सक्सेना (लंदन), ललित मोहन जोशी (लंदन), डॉं वंदना मुकेश (नाटिंघम), जय वर्मा (बर्मिंघम), अमेरिका से डॉ. सुषम बेदी (न्यूयार्क), कविता वाचक्नवी (डलास), रेखा मैत्र (कैलिफोर्निया), उमेश ताम्बी (फिलाडेल्फिया), अशोक सिंह (न्यूयार्क), अनूप भार्गव (न्यूजर्सी), मनीष गुप्ता (सिएटल), कनाडा से महेन्द्र धर्मपाल (टोरंटो), ऑस्ट्रेलिया से भावना कुँवर (सिडनी), रेखा राजवंशी (सिडनी), संजय अग्निहोत्री (सिडनी), सिंगापुर से संध्या सिंह (सिंगापुर), डेनमार्क से डॉ. अर्चना पैन्युली (कोपेनहैगेन), नीदरलैंड से डॉ. पुष्पिता अवस्थी (एम्सटर्डम), डॉ. रामा तक्षक, (एम्सटर्डम), कुवैत से जितेन्द्र चौधरी (कुवैत सिटी), को शामिल किया गया है।
उपरोक्त अंतर्राष्ट्रीय समिति से सहयोग के लिए भारत से भी एक 27 सदस्यीय समूह का गठन किया गया है, जो साहित्य, संस्कृति, शिक्षा एवं प्रशासन के विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करता है। इस समूह में संतोष चौबे (भोपाल), मुकेश वर्मा (भोपाल), बलराम गुमास्ता (भोपाल), महेन्द्र गगन (भोपाल), डॉ. अनुराग सीठा (भोपाल), आत्माराम शर्मा (भोपाल) लीलाधर मंडलोई (नई दिल्ली), डॉ. कमल किशोर गोयनका (नई दिल्ली), विनय उपाध्याय (भोपाल), डॉ. सच्चिदानंद जोशी (नई दिल्ली), डॉ. ऊषा गांगुली (कोलकाता), देवेन्द्रराज अंकुर (नई दिल्ली), अशोक भौमिक (नई दिल्ली), डॉ. रमेश चंद्र शाह (भोपाल), प्रभु जोशी (इंदौर), सिद्वार्थ चतुर्वेदी, अदिति चतुर्वेदी, पल्लवी राव चतुर्वेदी, नितिन वत्स, डॉ. विजय सिंह, नुसरत मंेहदी (सभी भोपाल), अरविंद चतुर्वेदी, अभिषेक पंडित (नई दिल्ली), विनीता चौबे, पुष्पा असिवाल, शशांक एवं मेजर जनरल (रिटा.) श्याम श्रीवास्तव (भोपाल) को शामिल किया गया गया है। आईसेक्ट समूह के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपति एवं रजिस्ट्रार इसमें विशेष आमंत्रित सदस्य होंगे।

विश्वरंग की समाप्ति के ठीक एक महीने बाद हुई आयोजन समिति की बैठक में उपरोक्त समिति का गठन किया गया। समिति ने अपने लिए कुछ कार्य भी तय किये हैं जैसे - अपने देश/शहर में हिंदी तथा भारतीय भाषाओं के प्रचार प्रसार के लिए कार्य करना, भारतीयता/भारतीय संस्कृति के प्रतिनिधि के रूप में कार्य करना एवं संबंधित गतिविधियाँ आयोजित करना, हिंदी और भारतीय भाषाओं के पठन-पाठन में कार्यरत स्थानीय विश्वविद्यालयों से गहरा संबंध स्थापित करना तथा उनकी यथा संभव मदद करना, भाषा के प्रचार प्रसार में टेक्नॉलॉजी के उपयोग को बढ़ावा देना और टेक्नोलॉजी समूहों के साथ जीवंत संपर्क स्थापित करना, अपने-अपने देशों/महादेशों में हिंदी तथा भारतीय भाषाओं पर केंद्रित समन्वित कार्यक्रम करना तथा उसमें भारतीय साहित्यकारों को शामिल करना, स्थानीय संस्कृति और भाषा के साथ परस्पर सम्मान तथा समन्वय का (अनुवाद को शामिल करते हुए) रिश्ता कायम करना और भारत के साथ उनका रचनात्मक संबंध बनाने का प्रयास करना।
विश्वरंग की गतिविधियों को समन्वित गति प्रदान करने के लिए कुछ ठोस कार्यक्रम भी निर्धारित किये गए हैं, जिनमें - कथा देश की तरह प्रवासी भारतीय साहित्य के कथा, कविता तथा आलोचना कोश प्रकाशित करना, देशों पर केंद्रित कोश प्रकाशित करना जिसमें उस देश के आधुनिक साहित्य के अनुवाद प्रकाशित हों, भारतीय साहित्य के विदेशी भाषाओं में अनुवाद प्रकाशित करना, चयनित देशों में स्वतः स्फूर्त 'विश्वरंग' जैसे कार्यक्रम आयोजित करना जो संयुक्त बैनर पर हो सकते हैं, 'विश्वरंग' नाम से एक पत्रिका का प्रकाशन करना जो अधिकतम लोगों को जोड़ने का प्रयास करेगी, समानधर्मी व्यक्तियों, संस्थाओं, पत्र-पत्रिकाओं का डाटाबेस बनाना तथा 'विश्व रंग' का आयोजन एक निश्चित अवधि में करते हुए उसकी गतिविधियों का विस्तार करना।
इस 'विश्वरंग' अंतर्राष्ट्रीय समिति का सचिवालय रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, भोपाल स्थित टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला केन्द्र में स्थित होगा और इसमंे 'गर्भनाल' पत्रिका की सहयोगी भूमिका रहेगी।

    सिद्धार्थ चतुर्वेदी
     सह निदेशक, विश्वरंग